October 2, 2022

Bhojpuriya Mati News

सच का आईना

बिहार चुनाव- क्या बिना लड़े जीता जा चुका है?

1 min read

 

बिहार विधानसभा चुनाव के तारीखों की आधिकारिक घोषणा अभी नहीं हुई है और प्रदेश में कोरोना से पीड़ितों मरीजों के आकड़ो में तीव्र वृद्धि से यह तय समय पर हो पाना भी मुश्किल हीं लग रहा है।

मगर ग़ौर करने वाली बात यह है कि अगर निर्धारित समय पर चुनाव होते हैं तो फिर विपक्ष एकदम हीं फीकी नज़र आ रही है, जिससे यह स्पष्ट अनुमान लगाया जा सकता है कि परिणाम इस बार भी वहीं रहेंगे-यानी मुख्यमंत्री पद पर नीतीश कुमार व नेता प्रतिपक्ष पद पर तेजस्वी यादव।

बात करें राजग में नीतीश कुमार के और महागठबंधन में तेजस्वी यादव के पकड़ की तो फ़र्क़ साफ़ नज़र आएगा, तेजस्वी को अभी और मेहनत करने की आवश्यकता है। तीन साल पूर्व भाजपा से गठबंधन कर नीतीश कुमार राजग में एकमात्र विकल्प नज़र आते हैं जिनके चेहरे पर चुनाव लड़ी जाएगी, जबकि सबसे बड़ी विपक्षी दल महागठबंधन में मुख्य चेहरा तय हीं नहीं है।

गौरतलब है कि सिर्फ़ कोरोना काल में ही नीतीश कुमार ने काफ़ी गलतियाँ की जैसे कि कोटा से लौटने वाले बच्चों के प्रति कोई प्रतिक्रिया नहीं, मजदूरों के लिए श्रमिक एक्सप्रेस तक पर रोक, अस्पतालों की जर्जर व्यवस्था तथा टेस्टिंग किट तक की उपलब्धता नहीं। अवसर अच्छा था नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के पास जब नीतीश कुमार भी घर से 90 दिन तक नहीं निकले मगर स्वयं तेजस्वी यादव भी 50 से अधिक दिनों तक गायब रहें और निकले भी तो गोपालगंज मार्च को लेकर। ज्ञात हो कि वहाँ भी उन्होंने मुद्दा ग़लत उठाया, जहाँ संभावित मुद्दा यह होना चाहिए की तथाकथित आरोपी (तय नहीं है) अमरेंद्र पांडेय एक समांतर सरकार चला रहे, जबकि राजद कार्यकर्ताओं ने कहा कि यादव जाति के लिए आंदोलन किया गया और मुद्दा वहीं जाति वोटर पर लाकर खड़ा कर दिया गया।

चुनावी माहौल है और कुछ भी हो सकता है मगर फिर भी अगर गठबंधन मज़बूत रहा तो चुनावी नतीजों में किसी प्रकार का कोई अंतर नहीं दिखेगा। ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं।

सरकार को बिहार की बदहाली पर ध्यान देना चाहिए, नीतीश कुमार जी पर जिम्मेदारी बहुत बड़ी हो जाती है क्योंकि श्रीकृष्णा सिंह के बाद वह सूबे के दूसरे मुख्यमंत्री होंगे जो चौथी बार जनादेश मांगने जाएंगे जनता के बीच। देखना होगा कि इस बार कौन-सा नया दांव पेंच लगाती हैं राजनीतिक पार्टियाँ।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.