August 13, 2022

Bhojpuriya Mati News

सच का आईना

लोजपा के बाहुबली नेता स्व. बृजनाथी सिंह के बेटे लोजपा आईटी सेल के प्रदेश अध्यक्ष राकेश रौशन ने राघोपुर की जनता के नाम लिखा भावुक संदेश।

1 min read

लोक जनशक्ति पार्टी के आईटी सेल के प्रदेश अध्यक्ष ई0 राकेश रौशन ने राघोपुर की जनता के नाम एक पत्र लिखा है। चुकि कोरोना का कहर काफी बढ़ा हुआ है इसलिए उन्होंने पत्र को संचार का माध्यम बनाया है। पढिये उन्होने क्या लिखा-

मेरे प्रिय सम्मानित जन,

“वर्ष 2000 के चुनाव में जब मेरी माँ वीरा देवी जनता दल यूनाइटेड के टिकट पर राघोपुर से चुनाव लड़ी थी, तब आपका भरपूर स्नेह मेरी माँ और पिताजी को मिला था जिसका मैं हृदय से आभारी हूँ”
और उसके बाद फिर से बीते चार वर्षों से आपके द्वारा निरंतर निश्चल स्नेह पाकर अभिभूत हूँ, मैं राघोपुर की जनता का हृदय से आभारी हूँ जिन्होंने इस अकेले खड़े बच्चे को इतनी ममतामयी स्नेह दिया। जीवन के अपार दुःखो में सबसे बड़ा दुःख होता है सर से पिता का साया उठ जाना, जिसे मेरे साथ आपने भी सहन किया।

सन 2016 का वो मेरे जीवन का काल दिन जब मेरे पिताजी की अधर्मियों-अन्यायियों द्वारा हत्या कर दी गयी, वो पिताजी जिन्होंने जनता की जिम्मेदारियों के लिए खुद के शरीर को तपा दिया। कुछ अपराधियों ने उन्हें मार दिया था। अपराधी ने सिर्फ बाबूजी को ही नहीं बल्कि बाबूजी की मृत्यु के साथ-साथ, हम सभी के साहस को भी वहीं हिलाकर रख दिया था। ईमानदारी से कहूँ तो तब मेरे हौसले डगमगाने लगे थे, सर से छत और जीवन से पिता रूपी कठोर साया हट चुका था। हृदय फटा जा रहा था, लगा कि राजनीति में नहीं आना चाहिए, बाबूजी न आते तो शायद आज जिंदा होते। बिहार पुलिस के लिए गोल्ड मेडल प्राप्त करने वाले पुलिस सितारे थे बाबूजी, और अंत में हम सबों को छोड़कर चले गए।

स्वर्गीय बृजनाथी सिंह

पिताजी की मृत्यु दुखदाई थी। लगा था कि कौन साथ खड़ा रहेगा मेरे, कौन बाबूजी की तरह अंगुली थाम कर चलना सिखलाएगा। बाबूजी मृत्युशैया में दरवाजे पर थें और एक हुजूम इकट्ठे उनके साथ। मेरे दुःख बड़े थे, एकदम असहनीय, मगर आपके दुखों के आगे बौने थे। मैंने तो एक पिता खोया था, आपने तो अपनी सारी उम्मीद, सारा आत्मविश्वास खो दिया था। उस दिन एहसास हुआ की बाबूजी सिर्फ मेरे नेता नहीं आपके भी नेता थे। वो जिसके खिलाफ लड़ रहें थे बड़े लोग थे, फिर भी बाबूजी हारे नहीं वीरगति को प्राप्त हुए।

जब चित्त शांत हुआ और गहन विचार किया तो समझ आया की पिताजी ने जिस समाज के लिए अपने पूरे जीवन को खपा दिया, उस समाज से मैं किनारा कर लूं तो पिताजी के आत्मा को बेहद दुःख पहुंचेगा। अपराधियों ने पिताजी के शरीर को सिर्फ मारा था, आत्मा और विचारों को नही मारा जा सकता।

श्रीमद्भागवतगीता में कृष्ण कहते हैं-
नैनं छिन्दन्ति शस्त्राणि नैनं दहति पावकः ।
न चैनं क्लेदयन्त्यापो न शोषयति मारुतः ।।

इस आत्मा को शस्त्र काट नहीं सकते, आग जला नहीं सकती, जल गला नहीं सकता और वायु सूखा नहीं सकता।
“न हन्यते हन्यमाने शरीरे।।”
शरीर को नष्ट किया जा सकता है, किंतु आत्मा को नष्ट नही किया जा सकता”
इन सभी बातों पर विचार करके मैंने ये निर्णय लिया की अपने पिताजी के विचारों को मैं आगे लेकर बढूंगा और समाज को अपना पूरा जीवन समर्पित करूंगा। अपनी आखिरी सांस तक जनता के हित के किये संघर्ष करता रहूंगा।

उनकी मृत्यु के बाद ये जो नया जीवन दिया है, नया उद्देश्य दिया है, इसके लिए आपको प्रणाम करता हूँ।

पिता के जिम्मेदारियों के साथ

मैं राकेश रौशन, पुत्र स्वर्गीय बृजनाथी सिंह, आप सभी को प्रणाम करता हूँ। यह संकल्प पत्र आपकी मेहनत का फल है,वो मेहनत जिसे आपके प्यार ने सींचा है,आपने ही काबिल बनाया है,अपने इस बेटे के साथी बने रहें, लड़ते रहें हैं। अब वक्त आ गया है, अपने सभी कर्तव्यों को निर्वाह करने का।

प्रिय स्नेहीजन,
विधानसभा चुनाव की बिगुल फूंकी जा चुकी है, अबतक आपने अपने इस बेटे को जितना प्यार दिया है, उसी प्यार को सत्ता मद में चूर उन विधायक को दिखा देना है जो सिर्फ वोट लेने आते हैं, कर्तव्य निर्वाह करने के लिए नहीं। जो आपके प्रश्नों के उत्तर में कहते है कि बड़ा नेता है, राज्य संभालेगा। उस सत्ता के अहंकार में चूर धनानंद को सत्ता से शून्य करने का समय आ गया है, और इस युग के चाणक्य आप जनतागण ही हैं। आपका ये बेटा, आपका साथी, आपका भाई आज आपकी हिम्मत के बदौलत खड़ा हुआ है, आपके विचारों पर ही आगे बढ़ रहा है, और आगे भी आपके बताये सुझाव पर ही विचार करेगा। अबतक राघोपुर से सौतेला व्यवहार किया जाता रहा है। अब तक राघोपुर से जो भी विधायक जीतते आएं, जिन्हें आप सबों ने इतना स्नेह दिया, मुख्यमंत्री बनाया। वो सब यहाँ से जीत कर जाते है, फिर झांकने तक नहीं आते है। जिस जनता ने मुख्यमंत्री एवं उप-मुख्यमंत्री बनाया उसे क्या मिला, इस सवाल का जवाब मांगने का वक्त आ गया है। हम पूछेंगे उन सत्ताधारियों से मिलकर।

एक कार्यक्रम के दौरान युवा राकेश

प्यारे साथियों,
जो व्यक्ति इस गांव मे पला बढा हो, जिस कठिनाई का सामना कर पढाई पूरा किया वो सबका महत्व जानता है। इस संकल्प पत्र में मेरे द्वारा उन सभी सबसे जरूरी कामों का जिक्र किया गया है, जिसे मैं समझता हूँ सरकार को शीघ्र करना चाहिए था।

कुछ काम का जिक्र मैं अपने इस पत्र में करता हूँ –

1. राघोपुर प्रखण्ड का लगभग 6 महीने तक जलमग्न रहना सबसे मुख्य मुद्दा है, इसे दूर करने हेतु सर्वप्रथम प्रयास किया जाएगा। राघोपुर के चारो तरफ ऊंचाई पर एनएच के निर्माण से अधिकतर बस्तियों को जलमग्न होने से बचाया जा सकता है। हमारी सरकार आयी तो सबसे पहले इस समस्या के समाधान हेतु आवाज़ उठायी जाएगी।

2. शिक्षा के क्षेत्र में सुधार की बहुत जरूरत है। एक समृद्ध एवं कुशल प्रदेश का नेतृत्व पढे लिखे युवा करते है। इस संदर्भ में बारहवीं तक की पढ़ाई सुचारू रूप से करवाई जाएगी ,एवं आपके कौशल की भी व्यवस्था की जाएगी, ताकी भविष्य में स्वतः ही रोजगार प्राप्त कर सके।

● बेटियों के लिए भी पढाई उतनी हीं जरूरी है, इस संदर्भ में छात्रवृत्ति, एवं पुरजोर समर्थन का ऐलान किया जाएगा।

3. उच्च शिक्षा हेतु, कालेजों की सुविधा मुहैया कराने का प्रावधान। राज्य सरकार से बात करके इस समस्या का समाधान करना बेहद जरूरी है, ताकी छात्रों को यहाँ से पलायन करने की जरूरत न पड़े।

4. इस क्षेत्र में बीते पांच वर्ष में आपराधिक गतिविधियों बढती हीं गई है। मैने बाबूजी को खोया,इस दर्द की अनुभूति कर सकता हूँ कि परिवार की जान खोना कितना दुःखद है।तो सबसे पहले इसपर नकेल कसना होगा। एक तत्कालीन हेल्पलाइन जारी किया जाएगा इस संदर्भ में।

5. महिलाओं की सुरक्षा- इसके मद्देनजर जनादेश पाने के 100 दिन के अंदर सीसीटिवी कैमरे का सुचारु रूप से इस्तेमाल हर महत्वपूर्ण जगहों पर जनता की आम सहमति के साथ किया जाएगा।

6. प्रदेश में बढते हुए तस्करी को रोकने हेतु तत्काल जरूरी कदम। तस्करी व अपराध मुक्त करके खुशहाल परिवार की नींव।

7. बारहवीं उत्तीर्ण छात्रों को अगले तीन वर्षों तक आगे की पढाई हेतु प्रत्येक माह हज़ार रुपये की सहायता प्राप्त हो ऐसे प्रबंधन की मांग।

8. यह प्रदेश किसान परिवार से जुड़ा है, बिना उनके यह विकास की राह पर नहीं चल सकता। अरहर की खेती पर पुनः विचार, न्यूनतम सहयोग राशि, एवं सभी फसलों के उचित मूल्य मुहैया कराई जाएगी।

9. प्रदेश के दुग्ध उत्पादक को पटना शहर भेजे जाने वाले दुग्ध से रोजगार मिलता था, उसे पुनः स्थापित किया जाएगा ।

10. पुल निर्माण के बाद, नाविकों एवं अन्य कौशलयुक्त बेरोजगारो पर पूर्णतः ध्यान।

उपरोक्त निर्णय मैने बीते कुछ वर्षों में ज्यादा महसूस किए हैं। प्रदेश की खुशहाली जनता से निर्मित होती है, इसी संदर्भ में आगे की प्रगति का उद्घोष किया जाएगा। ये संकल्प पत्र जन-जन का है। मैं इसे आपकी कमाई, आपकी जरूरत मानता हूँ, जिसपे आपका अधिकार है, वो आपको मिलना ही चाहिए।

पिताजी सदैव कहा करते थे कि “मेरी एक-एक सांस जनता के हित और विकास के लिए समर्पित है” बाबूजी के दिए गये इन्हीं विचारों से प्रेरणा लेते हुए, प्रदेश के विकास के लिए आपसे सहयोग की अपेक्षा रखता हूँ। आपने आपने बेटे को खूब प्यार दिया है, ये चुनाव मेरे प्रति आपका स्नेह ही है। चुनाव में मैं नहीं आप लड़ रहें होंगे, आप सभी को सुख व संतोष मिले और साथ ही पूरे प्रदेश के साथ कदम मिलाकर अपना राघोपुर भी चल सके, राघोपुर का भी विकास हो इसके लिए ये चुनाव में आपकी जीत हो ये अनिवार्य है।

आप जानते हैं की जनता की जनार्दन है, मैं अपने प्रदेश के जनार्दन को जगाने आया हूँ।
हे जनार्दन! उठिये, अब वक्त आगया है दुराचारियों से कठोर सवाल करने का और उनसे जवाब मांगने का। याद रखिए, इस चुनाव में आपके बच्चों का पांच कीमती साल, आपके रोजगार के अवसर पर फैसला होगा। लोकतंत्र का विजय हो और जनता के हाथों में शासन हो ये बेहद आवश्यक है।

मैं जानता हूँ चुनाव में तमाम बाधाएं आएंगी, और उन तमाम बाधाओं का सामना भी आप जनतागणो को ही करना है। नोट पे वोट लिए जाने वाली परंपराओं का भी अंत आपको ही करना है, आप फैसला कीजिये, इस बार बच्चों के भविष्य से कोई समझौता नहीं होगा। हम अब एक साथ खड़े है इसबार, हम लड़ेंगे।
“हम लड़ेंगे अपने राघोपुर के विकास के लिए, आखिर सांस तक लड़ेंगे।”

और इस बार उन सभी घमंडी, सत्ता के मद में चूर नेताओं के सम्मुख खड़े होकर कहिए
“सिंघासन खाली करो कि जनता आती है”

आपका बेटा, आपका भाई, आपका साथी
राकेश रौशन

 19,399 total views,  3 views today

2 thoughts on “लोजपा के बाहुबली नेता स्व. बृजनाथी सिंह के बेटे लोजपा आईटी सेल के प्रदेश अध्यक्ष राकेश रौशन ने राघोपुर की जनता के नाम लिखा भावुक संदेश।

  1. Yes bhaiya g bidesi bhagao desi Apnao
    Raghopur ke liye best leader kewal ap ekmatr bikalp hi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.